जिले में बीजेपी में टिकट वितरण को लेकर असंतोष, अटल बिहारी के भांजे मुरैना से सांसद अनूप मिश्रा नाराज

India News

भारतीय जनता पार्टी में टिकट वितरण को लेकर उपजा असंतोष अब तक थमने का नाम नहीं ले रहा है। पूर्व प्रधानमंत्री और भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेई के भांजे और मुरैना से पार्टी के सांसद रहे अनूप मिश्रा ने एक बार फिर पार्टी नेतृत्व को कटघरे में खड़ा किया है।
उन्होंने कहा है कि भाजपा अब कैडर बेस पार्टी नहीं रही अब यह मास बेस पार्टी बन कर रह गई है। ऐसे में कार्यकर्ताओं की उपेक्षा भी देखी जा रही है। ग्वालियर संसदीय क्षेत्र से अपना टिकट कंफर्म मानकर चल रहे मिश्रा को इस चुनाव में टिकट नहीं दिया गया है। उनका कहना है कि पार्टी के कार्यकर्ताओं की भावनाओं का ध्यान नहीं रखा जा रहा है। जिसका खामियाजा आने वाले चुनाव में भुगतना पड़ सकता है। ग्वालियर संसदीय क्षेत्र से महापौर विवेक नारायण शेजवलकर को पार्टी ने टिकट दिया है। लेकिन मिश्रा का कहना है कि उनकी कार्यपद्धती और प्रबंधन पर पकड़ कमजोर है। उनका कहना है कि वह पार्टी के अनुशासित कार्यकर्ता हैं और पार्टी के हित में जो भी काम होगा उसे करेंगे। सांसद रहे मिश्रा ने पार्टी नेतृत्व पर निशाना साधते हुए कहा कि टिकट वितरण में कार्यकर्ताओं की भावनाओं का ध्यान रखा जाता तो बेहतर होता। क्योंकि शिवराज सरकार के दौरान 15 सालों में कार्यकर्ताओं की उपेक्षा हुई नतीजा यह रहा कि मध्य प्रदेश में भाजपा की सरकार नहीं बन सकी। टिकट वितरण में पार्टी नेतृत्व कार्यकर्ताओं की भावनाओं का ध्यान रखता तो नतीजे और ज्यादा बेहतर हो सकते थे।