कलेक्ट्रेट पहुंचे कोचिंग संचालकों ने प्रशासन से मांगी मोहलत

India News

सूरत के कोचिंग सेंटर में आगजनी के बाद कोचिंग में अध्ययनरत बच्चों की दर्दनाक मौत के बाद पूरे देशभर में कोचिंग सेंटरों पर कार्रवाई कर यहाँ सुरक्षा के मानकों की जांच की जा रही है ग्वालियर में भी प्रशासन की इस कार्रवाई से नाराज कोचिंग संचालकों ने बुधवार को कलेक्ट्रेट पहुंच कर अपनी पीडा बताते हुए प्रशासन द्वारा जारी मापदंडों को पूरा करने के लिए कुछ मोहलत मांगी।
सूरत हादसे के बाद जिला प्रशासन लगातार कोचिंग सेंटरों पर कार्रवाई कर यहाँ सुरक्षा मापदंडों की जांच कर रहा है जिसके बाद कुछ कोचिंग सेंटरों पर सुरक्षा के पूरे मानक नहीं मिलने पर उनके खिलाफ कोचिंग बंद करने की कार्रवाई की गई है साथ ही प्रशासन ने 13 सूत्रीय गाईडलाईन भी जारी की है जिनके पालन को कोचिंग सेंटर संचालकों को हिदायत दी है जिला प्रशासन की सख्त कार्रवाई के बाद बुधवार को कोचिंग सेंटर संचालक कलेक्टर से मिले और अपनी पीडा बताइ
वहीं कलेक्टर अनुराग चैधरी ने भी कोचिंग सेंटर संचालकों की बात सुन उन्हें आश्वासन दिया है कि वे सुरक्षा मानकों को पूरा कर अपने कोचिंग सेंटर को ओपन कर सकते हैं। जिसमें सबसे जरूरी है कि कोचिंग में एग्जिट और इंट्रेस के पूरे प्रबंध हों फायर सिस्टम पूरी तरह चालू हो और दुर्घटना के समय बचाव के पूरे प्रबंध किए गए हों।

एक तरफ जहाँ ग्वालियर शहर के कोचिंग संचालकों ने कलेक्ट्रेट पहुंच कर प्रशासन को अपनी बात बताई वहीं दूसरी ओर डबरा शहर के कोचिंग संचालक भी एसडीएम के पास अपनी शिकायत दर्ज कराने पहुंचे और प्रशासन द्वारा उचित आश्वासन नहीं देने पर उन्होने रविवार तक कोचिंग सेंटर बंद रखने की बात कही है।